‘Bhakt’ and Indian Politics – भक्त और भारतीय राजनीति

Until the 2014-15, the word “Bhakt” meant a ‘religious devotee’ because the origins of the so called “Bhakti movement” are to be found in the religious, devotional trend that emerged in medieval Hinduism and was later revolutionised in Sikhism. It travelled to Islam as Sufism. The Bhakti movement originated in the eighth-century Tamil south India, and spread northwards. It swept over east and north India from the 15th century onwards. The Bhakti movement regionally developed around different gods and goddesses, such as Vaishnavism (Vishnu), Shaivism (Shiva), Shaktism (Shakti goddesses), as well as a wide range of philosophical positions ranging from dualism of Dvaita to absolute monism of Advaita Vedanta.

The movement has traditionally been considered as an influential social reformation in Hinduism, and provided an individual-focussed alternative path to spirituality regardless of one’s caste of birth or gender. Postmodern scholars suggest that Bhakti movement was a revival, reworking and re-contextualisation of ancient Vedic traditions.

The Shvetashvatara Upanishad, the Katha Upanishad and the Bhagavad Gita mention Bhakti. The epilogue verses of the Shvetashvatara Upanishad, uses the word Bhakti as follows:

यस्य देवे परा भक्तिः यथा देवे तथा गुरौ । तस्यैते कथिता ह्यर्थाः प्रकाशन्ते महात्मनः ॥ २३ ॥

“He who has highest Bhakti (love, devotion) of Deva (God), just like his Deva, so for his Guru (teacher), to him who is high-minded, these teachings will be illuminating.”

The Bhagavad Gita, introduces “bhakti marga” (the path of faith/devotion) as one of three ways to spiritual freedom and release, the other two being “karma marga” (the path of action/effort) and “jnana marga” (the path of knowledge). The word “Bhakt” also finds a mention in chapter 7 of Bhagavd Gita which postulates four types of devotes:-

चतुर्विद्या भजन्ते मम जनः सुकृतिनो अर्जुन, आर्तो जिज्ञासु अर्थार्थी ज्ञानी च भरतर्षभ ||

Four types of men begin to render devotional service unto Me—the distressed, the inquisitive, the seeker of material wealth, and the one who has already realized knowledge of the Absolute.”

  • Arta (the distressed) – people suffering pain at physical or at mental level.
  • Artharti (Devotees with certain wishes) – desirous of material wealth, kids, name and fame.
  • Jigyasu (Knowledge Seeker) – have faith in God and want to explore more about Him.
  • Jnani (Self Realised) – who have finally realized GOD and have true knowledge of Him.

To the best of my awareness and limitations of memory, the word “Bhakt” did not exist in Indian politics before 2014.  And subject to the same limitations, when BJP was on a roll in 2014 during its electioneering and victory; this term was used by Shri Digvijay Singh of the Congress. [I extend unconditional apologies to the true and real owner of this intellectual capital if the credit has wrongfully gone to someone else.] This term was used in a disparaging and a derogatory sense to humiliate some of the volunteers who were acting as impact-multipliers for social media campaign unleashed by the BJP IT Cell.

When Congress recorded its most humiliating of the performance at any election, rather than gracefully acknowledge the brilliance of work done by the BJP IT Cell, the ungraceful losers, extended the description “Bhakt” to any and every voice attacking the pseudo-secularism, or the hypocrisy of the national media or seen as lending even an insignificant support to Hinduism or the intents of the BJP government. Though signified as “Bhakts”, the signifying meaning is that such people are actually “Sinners” of every political party in general and the Congress in particular, save and except the BJP.

I support neither the BJP nor the Congress in taking pot-shots at each other in public utterances and political debates. I am no one to advise them which adjectives or abuses may not be used in their mutual descriptions and debates. I do resent the whole idea of disparaging a very noble, pious and a religious belief of “Bhakti” and “Bhakt” belonging to my religion. I celebrate “Bhakti” and for me the most auspicious “Bhakt” from my mythology have been “Bhakt-Hanuman”and “Bhakt-Prahalad” while from my rich cultural history, the undeniable “Bhakt-Mira.” If the illiterates are trying to impute any idea of Modi or BJP being the “God” of the “Bhakts”; this is not creative liberty; for in using such metaphor, the illiterates are running down my “Gods” and my “Bhakti”.

For the benefit of the illiterates, “Bhakti” is spiritual, a love and devotion to religious concepts or principles, that engages both emotion and intellection. The word Bhakti should not be understood as uncritical emotion, but as committed engagement. Bhakti movement in Hinduism refers to ideas and engagement that emerged in the medieval era on love and devotion to religious concepts built around one or more gods and goddesses. I find it disturbing that some of the illiterates are actually more Hindu and more nationalistic than I would ever be. While Hindus and Indians could fight the enemies outside, they have always lost to the enemies within. The irony has been that most of the “enemies within” have not been anti-Hindu or anti-India, but because of their unswerving devotion and blind faith in some forces, they have acted in deviant ways and ironically, such forces have turned out to be “anti-Hindu” and “anti-India.”

Time, the “pseudo-seculars” and the “Bhakt-bashers” appreciate that any “anti-Hindu” rhetoric can never be “pro-India” and any “pro-India” speechifying cannot be “anti-Hindu.”

 

Hindi Edition Follows:

हिन्दी संस्करण आगे है:

_____________________________________

Follow this blog to remain informed about new updates.

Share the post with your friends and networks!!

——————————————————————————————-

 

भक्त और भारतीय राजनीति

2014-15 तक “भक्त” शब्द का अर्थ ‘धार्मिक भक्त’ था क्योंकि मध्यकालीन हिंदू धर्म में उभरी धार्मिक और  भक्ति की प्रवृत्ति में तथाकथित “भक्ति आंदोलन” की उत्पत्ति पायी जाती है, जो आगे चल सिख धर्म के रूप में उपजी और विकसित हुई। यही “भक्ति आंदोलन” सूफीवाद के रूप में इस्लाम में पहुंचा। भक्ति आंदोलन आठवीं शताब्दी के दक्षिण तमिल भारत में पैदा हुआ, और उत्तर की ओर फैल गया। यह 15 वीं शताब्दी के बाद से पूर्व और उत्तर भारत में फैल गया। भक्ति आंदोलन क्षेत्रीय रूप से विभिन्न देवताओं और देवियों, जैसे वैष्णववाद (विष्णु), शैववाद (शिव), शक्तिवाद (शक्ति देवी), साथ ही साथ द्वैतवाद से लेकर अद्वैत वेदांत के दार्शनिक पदों की एक विस्तृत श्रृंखला के रूप में विकसित हुए।

इस आंदोलन को परंपरागत रूप से हिंदू धर्म में एक प्रभावशाली सामाजिक सुधार के रूप में माना जाता है, और आध्यात्मिकता के लिए व्यक्ति-केंद्रित, जन्म जाति या लिंग से परे, वैकल्पिक मार्ग प्रदान करता है। आधुनिक विद्वानों का मानना है कि भक्ति आंदोलन ने प्राचीन वैदिक परंपराओं का पुनरुत्थान कर नए सिरे से पुन: संदर्भित किया था।

श्वेताश्वतरोपनिषद, कठोपनिषद और श्रीमद्भागवतगीता में भक्ति का जिक्र है। श्वेताश्वतरोपनिषद के उपसंहार छंद, भक्ति शब्द का प्रयोग निम्नानुसार करते हैं:

यस्य देवे परा भक्तिः यथा देवे तथा गुरौ । तस्यैते कथिता ह्यर्थाः प्रकाशन्ते महात्मनः ॥ २३ ॥

“He who has highest Bhakti (love, devotion) of Deva (God), just like his Deva, so for his Guru (teacher), to him who is high-minded, these teachings will be illuminating.”

भगवत गीता, आध्यात्मिक स्वतंत्रता और मोक्ष के तीन रास्तों में से एक के रूप में “भक्ति मार्ग” (विश्वास/भक्ति का मार्ग) पेश करती है, अन्य दो रास्ते “कर्म मार्ग” (क्रिया/प्रयास का मार्ग) और “ज्ञान मार्ग” (ज्ञान का मार्ग) हैं। भगवत गीता के अध्याय 7 में भी “भक्त” शब्द का उल्लेख मिलता है जो चार प्रकार के समर्पणों को प्रस्तुत करता है: –

चतुर्विद्या भजन्ते मम जनः सुकृतिनो अर्जुन, आर्तो जिज्ञासु अर्थार्थी ज्ञानी च भरतर्षभ ||

“चार प्रकार के पुरुष मेरे लिए भक्ति सेवा प्रदान करना शुरू करते हैं- अर्त (परेशान), जिज्ञासु, भौतिक संपदा के साधक, और जिसने पहले से ही पूर्ण ज्ञान का ज्ञान प्राप्त कर लिया है।”

Four types of men begin to render devotional service unto Me— the distressed, the inquisitive, the seeker of material wealth, and the one who has already realized knowledge of the Absolute.”

मेरी याददाश्त के अनुसार, 2014 से पहले भारतीय राजनीति में “भक्त” शब्द मौजूद नहीं था। जहां तक मुझे याद आता है, इस शब्द का इस्तेमाल कांग्रेस के श्री दिग्विजय सिंह ने 2014 में जब भाजपा चुनावी जीत की ओर बढ़ रही थी, तब किया था। इस शब्द का इस्तेमाल बीजेपी आईटी सेल के सोशल मीडिया अभियान के प्रभाव-गुणक के रूप में कार्य कर रहे स्वयंसेवकों को नीचा दिखाने, अपमानित करने, निरुत्साहित करने के उद्देश्य से अपमानजनक और हस्यास्पद अर्थ में किया गया था। [यदि मैने अनभिज्ञता में यह श्रेय श्री सिंह को दे दिया हो तो मैं इस बौद्धिक पूंजी के सच्चे और वास्तविक स्वामी से बिना शर्त माफी मांगता हूं]

जब कांग्रेस ने 2014 में किसी भी चुनाव में सबसे अपमानजनक प्रदर्शन का रिकॉर्ड स्थपित किया तो भाजपा आईटी सेल द्वारा किए गए काम की प्रतिभा को गहराई से स्वीकार करने के बजाय, गरिमाहीन हारने वालों ने,  “भक्त” का बिल्ला हर किसी ऐसी आवाज़ पर चस्पा कर दिया जो छद्म-धर्मनिरपेक्षता पर या राष्ट्रीय मीडिया की पाखंडता पर हमला करने वाली हो, या जो भूले-भटके ही कुछ ऐसा कह दे जिसे हिंदू धर्म या बीजेपी सरकार को समर्थन के रूप में पेश किया जा सके। यद्यपि “भक्त” एक सांकेतिक संज्ञा के रूप में प्रयुक्त शब्द था, परंतु, इस संकेत में “पापी” अर्थ का समावेश था, “भक्त” से तात्पर्य था भाजपा को छोड़कर, सभी राजनीतिक दलों के प्रति और विशेष रूप से कांग्रेस के प्रति पाप करने वाले।

सार्वजनिक कथन और राजनीतिक बहस में, एक-दूसरे को आड़े हाथों लेने में जैसी भाषा का उपयोग बीजेपी और कांग्रेस की ओर से हो रहा है, मैं उसका समर्थन नहीं करता। लेकिन मैं उन्हें कोई सलाह भी देने की कोशिश नहीं कर रहा हूं कि उनके पारस्परिक वर्णन और बहस में कौन से “विशेषण” या “दुर्व्यवहार” का उपयोग नहीं किया जा सकता है। पर हिन्दू होने के नाते, मैं अपने धर्म से संबंधित एक बहुत ही महान, पवित्र और धार्मिक धारणा “भक्ति” और “भक्त” के अपमानित करने के भाव में उपयोग से आहत हूं। मैं “भक्ति” को एक अनुष्ठान के रूप में मनाता हूं और मेरी पौराणिक कथाओं से सबसे शुभ और श्रद्धेय “भक्त”  “भक्त-हनुमान” और “भक्त-प्रहलाद” हैं, तथा  मेरे समृद्ध सांस्कृतिक इतिहास के दौरान निर्विवाद “भक्त-मीरा” हैं।

“मोदी” या “बीजेपी” पर हमलावर होते हुए, यदि कुछ अशिक्षित और अज्ञानी “भक्त” शब्द का उपयोग उनके अनुयायियों को बदनाम करने के लिए प्रयोग में ला रहे हैं तो यह रचनात्मक स्वतंत्रता नहीं है। इस तरह के रूपक का उपयोग करके यह जाहिल और हेकड़ दीवाने मेरे “देवताओं”, मेरी “भक्ति” और मेरी आस्था का दुष्प्रयोग कर रहे हैं।

शिक्षित जाहिलों के कुछ ज्ञान-लाभ के लिए – “भक्ति” आध्यात्मिक है, धार्मिक अवधारणाओं या सिद्धांतों के प्रति प्रेम है, इसमें भावना और बोध-प्रक्रिया दोनों शामिल हैं। भक्ति शब्द को अनैतिक भावना के रूप में नहीं, बल्कि प्रतिबद्धता और वचनबद्धता के रूप में समझा जाना चाहिए। हिंदू धर्म में भक्ति आंदोलन उन विचारों और वचनबद्धता को दर्शाता है जो मध्ययुगीन युग में एक या एक से अधिक देवताओं और देवियों के प्रेम और भक्ति की धार्मिक अवधारणाओं के निर्माण के लिए उभरे। कुछ शिक्षित वास्तव में अधिक हिंदू और अधिक राष्ट्रवादी हैं जितना मैं कभी भी हुआ, और यह सच मुझे अधिक परेशान करता है। जबकि हिंदू और भारतीय बाहरी दुश्मनों से सदैव लड़ सकते थे, वे हमेशा अपनों के विश्वासघात से हारे हैं। विडंबना यह है कि “आंतरिक-दुश्मनों में से अधिकांश” हिंदू विरोधी या भारत विरोधी नहीं हैं, लेकिन कुछ शक्तियों में उनकी अविश्वसनीय आसक्ति और अंधविश्वास के चलते उन्होंने विचलित तरीकों से काम किया है। और दुर्भाग्य यह है कि ऐसी ताकतें “हिंदू विरोधी” और “भारत विरोधी” निकली हैं।

समय आ चुका है जब इस बदलते माहौल में झूठी-धर्मनिरपेक्षता का मुखौटा पहनने वाले यह समझने लगे कि हिंदू-विपक्षी तेवर कभी भी भारतीय-हित में नहीं हो सकते हैं और कोई राष्ट्र-समर्थक व्याख्यान हिंदू-विरोधी नहीं हो सकता है।

________________________________________________________

अगर आपको पोस्टिंग अच्छी लगी है, तो पसंद (Like) करें!

पोस्ट को अपने दोस्तों और नेटवर्क के साथ साझा करें !!

——–

Published by

Mukul Gupta

*Educator, researcher, author and a friendly contrarian* Professor@MDIGurgaon

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s