Friends – me a Traveller, without a home or a destination: मुसाफिर हूं यारों… न घर है ना ठिकाना!

Friends – me a Traveller … without a home or a destination

musaaphir hoon yaaron… na ghar hai na thikaana… !

“Hey brother, you are from which village?” “I am from village-Rampur, Post-Daglakakheda, Thesil-Jaunpur, District-Sitamarhi.” “Where have you come from?” This line of conversation used to be a common episode among the migrants settled in the cities or citizens travelling in buses-trains.

Following the knowledge revolution and the post modernist era, a new ‘placeless ness’ has marked a departure from the country space of the 19th and major part of 20th century in the world. Children are now born in one place (even onboard an airplane at times), grow up at different places, pursue their education in different schools or even through distance education (absentee) mode, work in different places, with different organisations that may represent different nationalities, pursue different jobs and careers, find life partners of different nationality, have children with a nationality that is different from their parents, and die miles away from homes.

More people are now global citizens (lack a place in the conventional sense or alternatively, exhibit placeless ness) than ever before. It was heard during the childhood, and there were many occasions to see, some nomadic tribes such as “Gadiyaa blacksmiths” in Rajasthan who would roam around endlessly and they always kept their homes on the bullock-carts. It seems that due to globalization, the new generations have become modern successors of such gypsy blacksmiths loitering around globally.

They don’t have any permanent address.

Hindi version follows –
____________________________________

Please share the post with your friends!!

You may follow the author on his blogsite In HINDI –

https://www.facebook.com/vichaaronkeeduniyamein/
____________________________________

मुसाफिर हूं यारों… न घर है ना ठिकाना… !

अरे भैय्या कौन से गांव के हो? हम तो गाम- रामपुर, पोस्ट- दगलाकाखेड़ा, जनपद- जौनपुर, जिला- सीतामढ़ी के रहे; आप कहां से आये रहे? शहरों मे बसे प्रवासी नागरिकों या बस-ट्रेन में यात्रियों के बीच इस प्रकार का वार्तालाप एक सामान्य घटना हुआ करती थी।

19वीं और 20वीं शताब्दी के पश्चात की, ज्ञान क्रांति और आधुनिकतावादी युग के आगे की पीढ़ी, एक नई “ठौर-ठिकाना विहीनता” से चिह्नित हो रही है। बच्चे अब किसी अलग स्थान पर पैदा हुए हैं (यहां तक ​​कि कई बार एक हवाई जहाज पर भी), अलग-अलग स्थानों पर बड़े होते हैं, अलग-अलग विद्यालयों में या अलग-अलग प्रणाली (अनुपस्थिति दूरस्थ शिक्षा) के माध्यम से शिक्षा ग्रहण करते हैं, विभिन्न स्थानों पर काम करते हैं, विभिन्न संगठनों के साथ, अलग-अलग राष्ट्रीयताएं वाले संगठनों के साथ विभिन्न नौकरियों और आजीविका का पीछा करते हैं, विभिन्न राष्ट्रीयता के जीवन साथी पाते हैं, उनके माता-पिता से अलग राष्ट्रीयता वाले बच्चे हैं, और घरों से मीलों दूर मृत्यु को प्राप्त होते हैं।

पहले से कहीं ज्यादा लोग अब वैश्विक नागरिक हैं; पारंपरिक अर्थ में किसी एक स्थान के नहीं है या वैकल्पिक रूप से देखें तो, ठौर-ठिकाना विहीन हैं। बचपन में सुना था, कई बार देखने का भी मौका मिला, कुछ राजस्थानी घुमक्कड़ जातियां जैसे गाड़िया लोहार बिना ठौर-ठिकाने के हमेशा बैलगाड़ियों पर अपना घर संजोये, निरंतर घूमते रहते थे। लगता है, गाड़िया लोहारों की आधुनिक प्रजातियां, भूमंडलीकरण के चलते नई पीढ़ियों के रूप में विश्वव्यापी हो गयी हैं।

इनका कोई स्थायी पता नही है!!

____________________________________
पोस्ट को अपने दोस्तों और नेटवर्क के साथ साझा करें !!

आप लेखक का अंग्रेज़ी ब्लॉग पर अनुसरण कर सकते हैं –

https://www.facebook.com/intheworldofideas/

____________________________________

Published by

Mukul Gupta

*Educator, researcher, author and a friendly contrarian* Professor@MDIGurgaon

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s